भाकृअनुप सोसाइटी की 88वीं आम बैठक

भाकृअनुप सोसाइटी की 88वीं आम बैठक श्री राधा मोहन सिंह, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री द्वारा भाकृअनुप सोसाइटी की 88वीं आम बैठक की अध्यक्षता की गई जिसका आयोजन एनएएससी परिसर, नई दिल्ली में किया गया। मंत्री महोदय ने अपने संबोधन में कहा कि 87 वर्ष पूर्व भाकृअनुप की स्थापना के समय से ही विभिन्न मुश्किल चुनौतियों के बावजूद भी परिषद द्वारा विभिन्न उपलब्धियां प्राप्त की गई हैं। ये उपलब्धियां कृषि प्रगति के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। उत्पादन एवं आय बढ़ोतरी, संस्थानों के विकास, मानव संसाधन विकास, नई तकनीकों का विकास, कृषि विविधीकरण के क्षेत्र में भाकृअनुप द्वारा सफलता के नए मानदंड स्थापित किये गए हैं।

कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार, पांच सालों में किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए प्रतिबद्ध है। इस बार के बजट में कृषि के समग्र विकास पर फोकस किया गया है जिसमें किसानों को वहन करने योग्य कर्ज उपलब्ध कराने, बीजों और उर्वरकों की सुनिश्चित आपूर्ति, सिंचाई सुविधाएं बढ़ाने, मृदा स्वास्थ्य कार्ड के माध्यम से उत्पादकता में सुधार लाने,  ई-नैम के माध्यम से एक सुनिश्चित बाजार और लाभकारी मूल्य दिलाने पर जोर दिया गया है।

  • कृषि की बेहतरी और किसानों की खुशहाली के लिए सरकार ने बजट में कई पहल की है।
  • आगामी वित्तीय वर्ष में कृषि क्षेत्र की प्रगति दर 4.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है।
  • 1951 से लेकर अब तक देश के खाद्यान्न उत्पादन में लगभग 5 गुणा, बागवानी उत्पादन में 9.5 गुणा, मत्स्य उत्पादन में 12.5 गुणा, दूध उत्पादन में 7.8 गुणा और अंडा उत्पादन में 39   गुणा की वृद्धि हुई है।
  • दूसरे अग्रिम आकलन के अनुसार पिछले वर्ष 2015-16 के मुकाबले वर्तमान वर्ष 2016-17 का उत्पादन उल्लेखनीय रूप से 20.41 मिलियन टन ज्यादा है।
  • पिछले वर्ष 2015-16 वर्ष की तुलना में वर्तमान वर्ष 2016-17 में रबी की बुवाई 6.86 प्रतिशत ज्यादा हुई है।

जारी.....

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् द्वारा स्नातक उपाधि के लिए 22वीं आखिल भारतीय प्रवेश परीक्षा (AIEEA-UG-2017) 13 मई, 2017 (शनिवार) तथा परास्नातक उपाधि एवं छात्रवृत्ति (AIEEA-PG-2017) तथा Ph.D. में प्रवेश एवं कनिष्ठ/वरिष्ठ अनुसंधान अध्येतावृत्ति AICE-JRF/SRF(PGS)-2017 हेतु परीक्षाएं 14 मई, 2017 (रविवार) को आयोजित की जाएंगी I

जारी...

नई सोच को साझा करें

कृषि के विभिन्न उप-क्षेत्रों में विकास व अनुसंधान योग्य विषयों से सबंधित सुझाव तथा नवोन्मेषी आमंत्रण स्वीकार किये जा रहे हैं

जारी...