भाकृअनुप-भारतीय जल प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण छात्रावास एनेक्सी का हुआ उद्घाटन

9 फरवरी, 2019, भुवनेश्वर

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, महानिदेशक (भा.कृ.अनु.प.) एवं सचिव (कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग) ने आज भाकृअनुप-भारतीय जल प्रबंधन संस्थान, भुवनेश्वर के प्रशिक्षण छात्रावास एनेक्सी का उद्घाटन किया।  

उन्होंने ‘कृषि में स्थायी जल प्रबंधन के दिशा-निर्देश: भविष्य के रास्ते' पर एक कार्यशाला का उद्घाटन भी किया। कार्यशाला का उद्देश्य भविष्य में कृषि में स्थायी जल प्रबंधन के लिए दिशा-निर्देश तैयार करना था।

डॉ. महापात्र ने अपने संबोधन में, जलवायु परिवर्तन युग में कृषि में पानी के स्थायी और सटीक उपयोग के महत्त्व पर जोर दिया।

Training Hostel Annexe inaugurated at ICAR-IIWM, Bhubaneswar   Training Hostel Annexe inaugurated at ICAR-IIWM, Bhubaneswar

उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय जल प्रबंधन संस्थान  न केवल राष्ट्रीय स्तर पर बल्कि वैश्विक स्तर भी पर कृषि जल प्रबंधन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तकनीकी जानकारी प्रदान करता है, जो जल प्रबंधन की आधुनिक कार्यप्रणाली है। साथ ही, क्षमता निर्माण कार्यक्रमों के माध्यम से सक्षमता कौशल को मजबूत करता है। उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर स्थायी कृषि जल प्रबंधन रणनीति विकसित करने के लिए तत्काल मध्यम और दीर्घकालिक कार्य योजना बनाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के कारण बहुमूल्य जल संसाधनों के संरक्षण के लिए पहले की तुलना में अधिक प्रयासों की आवश्यकता है और जल प्रबंधन अनुसंधान पर अंतर-संस्थागत सहयोग की आवश्यकता है ताकि यह पशुपालन और मत्स्य पालन जैसे कृषि के अन्य क्षेत्रों की जरूरतों को पूरा करे। डॉ. महापात्र ने इस अवसर पर एक हिंदी पत्रिका ‘कृषि जल’ का विमोचन भी किया।

इससे पहले, डॉ. एस. के. अंबास्ट, निदेशक, भाकृअनुप-भारतीय जल प्रबंधन संस्थान, भुवनेश्वर ने कार्यशाला के बारे में जानकारी दी।

भुवनेश्वर-कटक स्थित भाकृअनुप संस्थानों के निदेशकों, क्षेत्रीय प्रमुखों और वैज्ञानिकों ने किसानों की आय दोगुनी करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कृषि में सतत जल प्रबंधन के मुद्दों पर विचार-विमर्श किया।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय जल प्रबंधन संस्थान, भुवनेश्वर)