भाकृअनुप क्षेत्रीय समिति की 25वीं बैठक – VII का हुआ उद्घाटन

9 अगस्त, 2019, नागपुर

श्री महादेव जगन्नाथ जाँकर, पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन मंत्री, महाराष्ट्र सरकार ने आज भाकृअनुप-राष्‍ट्रीय मृदा सर्वेक्षण एवं भूमि उपयोग नियोजन ब्‍यूरो, नागपुर में क्षेत्रीय समिति संख्या - VII (RCM-VII) की 25वीं बैठक का उद्घाटन किया। समिति में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और गोवा राज्य शामिल हैं।

मंत्री ने उपलब्ध संसाधनों के आधार पर ज़ोर देते हुए कहा कि प्रौद्योगिकियों के अभिसरण से किसान की समस्याओं को हल करने और वर्ष 2022 तक किसान की आय को दोगुना करने में मदद मिलेगी। उन्होंने बागवानी और शुष्क भूमि कृषि में महाराष्ट्र की उपलब्धियों पर भी प्रकाश डाला।

15th Meeting of ICAR Regional Committee - VII

श्री जाँकर ने क्षेत्र के फसलों की उत्पादकता बढ़ाने और उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के किसानों की सराहना की।

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, महानिदेशक (भा.कृ.अनु.प.) एवं सचिव (कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग) ने देश की खाद्य आत्मनिर्भरता पर प्रकाश डाला। उन्होंने अतिरिक्त उपज के उपयोग के समाधान खोजने और मूल्य-संवर्धन द्वारा उन्हें अन्य उप-उत्पादों में परिवर्तित करने पर जोर दिया। महानिदेशक ने ईंधन के मुद्दे को संबोधित करने के लिए जैव इथेनॉल में चीनी के अधिक उत्पादन का उपयोग करने के लिए की गई नीतिगत कार्रवाई पर प्रकाश डाला।

डॉ. के. अलगुसुंदरम, उप महानिदेशक (कृषि इंजीनियरिंग और प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन), भाकृअनुप, नई दिल्ली और नोडल अधिकारी, भाकृअनुप-आरसीएम – VII ने बैठक के दौरान उठाए जाने वाले महत्त्वपूर्ण बिंदु के साथ-साथ नागपुर के महत्त्व पर भी प्रकाश डाला।

डॉ. जॉयकृष्णा जेना, उप महानिदेशक (मत्स्य विज्ञान) ने वर्ष 2022 तक किसान की आय को दोगुना करने में मत्स्य पालन और पशुपालन की भूमिका पर विचार-विमर्श किया।

डॉ. एस. के. सिंह, निदेशक, भाकृअनुप-राष्ट्रीय मृदा सर्वेक्षण एवं भूमि उपयोग नियोजन ब्यूरो, नागपुर और सदस्य सचिव, भाकृअनुप-आरसीएम – VII ने आभार प्रस्तुत किया।

श्री अनूप कुमार, प्रमुख सचिव, पशुपालन, मत्स्य और डेयरी, महाराष्ट्र सरकार और श्री विकास रस्तोगी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जलवायु अनुकूल कृषि परियोजना इस अवसर पर भाकृअनुप और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उपस्थित थे।

(स्रोत: भाकृअनुप-राष्ट्रीय मृदा सर्वेक्षण एवं भूमि उपयोग नियोजन ब्यूरो, नागपुर)