भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी में स्थापना दिवस समारोह
भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी में स्थापना दिवस समारोह

7 अप्रैल, 2024, देहरादून

भाकृअनुप-भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, देहरादून ने आज अपना 71वां स्थापना दिवस मनाया।

मुख्य अतिथि, डॉ. जे.एस. समरा, पूर्व सी.ई.ओ., राष्ट्रीय वर्षा आधारित कृषि प्राधिकरण एवं पूर्व उप-महानिदेशक, प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन, भाकृअनुप ने संस्थान में दिखाई देने वाले बुनियादी ढांचे, अनुसंधान कार्यक्रमों और उपलब्धियों के संदर्भ में बड़े पैमाने पर बदलाव और सुधार पर जोर दिया। उन्होंने मृदा और जल संरक्षण अनुसंधान और प्रशिक्षण में संस्थान के अथक योगदान को स्वीकार किया।

Foundation Day Celebration at ICAR-IISWC  Foundation Day Celebration at ICAR-IISWC

डॉ. आर.सी. श्रीवास्तव, पूर्व कुलपति, डॉ. राजेंद्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय, समस्तीपुर, बिहार, तथा डॉ. संजीव चौहान, निदेशक अनुसंधान, डॉ. वाईएस परमार बागवानी एवं वन विश्वविद्यालय, सोलन, हिमाचल प्रदेश इस अवसर पर सम्मानित अतिथि के रूप में उपस्थित थे। .

डॉ. श्रीवास्तव ने इस बात पर प्रकाश डाला कि यह संस्थान संसाधन संरक्षण के क्षेत्र में शोध छात्रों, विद्वानों, किसानों और अधिकारियों की जरूरतों को पूरा करता है।

Foundation Day Celebration at ICAR-IISWC  Foundation Day Celebration at ICAR-IISWC

डॉ. चौहान ने पोषक तत्व चक्र और ऑक्सीजन तथा कार्बन चक्र में संतुलन बनाने के लिए मृदा जल संरक्षण के महत्व के बारे में बात की जो हमारे वनों एवं कृषि उत्पादन प्रणालियों को बनाए रखते हैं साथ ही वृद्धि तथा इसके विकास को गति देते हैं।

डॉ. एम. मधु, निदेशक, भाकृअनुप-आईआईएसडब्ल्यूसी ने अनुसंधान परिणामों में सुधार, प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण, किसान कल्याण और सामाजिक विकास के उद्देश्य से संस्थान की उपलब्धियों एवं वर्तमान में किए गए विभिन्न पर प्रकाश डाला। उन्होंने युवा वैज्ञानिकों के लिए वित्तीय सहायता, संसाधन संरक्षण और कृषि में ड्रोन के उपयोग तथा अनुसंधान आउटपुट एवं परिणामों को बढ़ावा देने के लिए अन्य समय पर संस्थागतकरण पर प्रकाश डाला।

डॉ. एम मुरुगानंदम, प्रमुख,  पीएमई एवं केएम यूनिट ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए संस्थान के वैज्ञानिकों और अधिकारियों के योगदान को स्वीकार किया।

प्रगतिशील किसानों ने अपनी आजीविका और खाद्य उत्पादन के अवसरों को बढ़ाने में संस्थान के योगदान के बारे में बात की। समारोह के उद्घाटन के बाद एक सांस्कृतिक संध्या और खेल कार्यक्रम आयोजित किये गये।

कार्यक्रम में संस्थान के कुल 250 वैज्ञानिकों और कर्मचारियों, सेवानिवृत्त कर्मचारियों तथा विभिन्न संगठनों, गैर सरकारी संगठनों, प्रेस और मीडिया तथा शिक्षा जगत के मेहमानों के अलावा 50 ऑनलाइन प्रतिभागियों ने शिरकत की।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय मृदा एवं जल संरक्षण संस्थान, देहरादून)

×