शून्य बजट खेती की ओर बढ़ता कदम: श्री कैलाश चौधरी

13 अक्तूबर, 2019, पूसा, नई दिल्ली

श्री कैलाश चौधरी, केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण राज्य मंत्री ने भाकृअनुप-भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, पूसा, नई दिल्ली के महत्त्वपूर्ण फसल क्षेत्रों का दौरा किया।

शून्य बजट खेती की ओर बढ़ता कदम: श्री कैलाश चौधरी  शून्य बजट खेती की ओर बढ़ता कदम: श्री कैलाश चौधरी

श्री चौधरी ने वैज्ञानिकों द्वारा विकसित हर्बिसाइड टॉलरेंट (HT) बासमती चावल की क़िस्मों के बारे में बताते हुए कहा कि सीधे बोए जाने वाले चावल (DSR - Direct Seeded Rice) की खेती के लिए 35 प्रतिशत पानी की बचत, न्यूनतम खुराक के रूप में सुरक्षित शाकनाशी (Herbicide) लागू करते हुए प्रभावी खरपतवार नियंत्रण के साथ रोपाई पर श्रम की लागत कम करने के लिए अत्यधिक उपयोगी होगी।

मंत्री ने चावल की इस किस्म को महत्त्वपूर्ण बताते हुए कहा कि यह जल संरक्षण, प्रभावी तकनीकी और कीटनाशकों के सतत उपयोग एवं शून्य बजट खेती की दिशा में सराहनीय कदम है।

इस दौरान उन्होंने उच्च लौह और उच्च जस्ता के साथ समृद्ध बायोफोर्टिफाइड मोती बाजरा संकरों वाले क्षेत्रों का दौरा करते हुए कहा कि लघु एवं सूक्ष्म पोषक तत्त्वों के कुपोषण को कम करने एवं दोहरे उद्देश्य की उच्च उपज वाले अत्यंत उपयोगी मोती बाजरा संकर चारे के लिए भी उपयोगी है। उन्होंने कहा कि ऐसी किस्मों को उगाने से वर्षा आधारित क्षेत्रों में पशुपालन और डेयरी क्षेत्रों के सतत विकास में भी मदद मिलेगी।

उन्होंने किसानों से वैज्ञानिकों द्वारा विकसित फसल की उपयुक्त किस्मों की बुवाई को अपनाने और माननीय प्रधानमंत्री जी के किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने का आग्रह किया।