केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन

सरकार, किसान, हितधारकों और व्यवसायियों की ज़िम्मेदारी है कि कदन्न (पोषक अनाज) की पहुँच देश के प्रत्येक नागरिक तक हो: श्री नरेंद्र सिंह तोमर

17 सितंबर 2021, नई दिल्ली/हैदराबाद

श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने आज पोषण केंद्र (न्यूट्रीहब), भाकृअनुप-भारतीय कदन्न अनुसंधान संस्थान, हैदराबाद के द्वारा खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ), कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग, कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग तथा नीति आयोग के संयुक्त तत्त्वावधान में एचआईसीसी, हैदराबाद में आयोजित दो दिवसीय ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का शुभारंभ किया।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन

सम्मेलन का आयोजन अंतरराष्ट्रीय पोषक-अनाज वर्ष 2023 के परिप्रेक्ष्य में तथा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में किया गया है। इस अवसर पर ‘पोषक अनाज नवोद्यम प्रदर्शनी’ का उद्घाटन भी किया गया।

श्री तोमर ने कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ केवल नारा नहीं है, बल्कि इस दिशा में केंद्र सरकार ठोस योजनाओं के साथ मिशन मोड में कार्यरत है। उन्होंने कृषि क्षेत्र के अंतरालों को भरने के लिए पैकेजों के रूप में डेढ़ लाख करोड रुपए से ज्यादा राशि के प्रावधान का जिक्र किया। उन्होंने किसान उत्पादक संगठनों के संबंध में भी उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इनके माध्यम से छोटे व मँझोले किसान किस तरह लाभान्वित हो सकते हैं।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने किया ‘पोषक अनाज हितधारक सम्मेलन’ का उद्घाटन

श्री तोमर ने कहा कि पोषक अनाज हितधारकों का यह सम्मेलन कदन्न के महत्त्व, इसके उत्पादन, प्रसंस्करण और व्यवसायीकरण के लिए मददगार साबित होगा। उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि सरकार, किसान, हितधारकों और व्यवसायियों की ज़िम्मेदारी है कि कदन्न (पोषक अनाज) की पहुँच देश के प्रत्येक नागरिक तक हो। मंत्री ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को पोषक-अनाज (कदन्नों) का महत्त्व समझकर, उन्हें अपनी थाली का हिस्सा बनाना चाहिए। उन्होंने जानकारी साझा करते हुए कहा कि भारत ने संयुक्त राष्ट्र के समक्ष कुपोषण से मुक्ति की बात रखते हुए पोषक अनाजों के संबंध में जागरूकता की चर्चाएँ की, परिणामस्वरूप संयुक्त राष्ट्र संघ ने वर्ष 2023 को अंतरराष्ट्रीय पोषक-अनाज वर्ष के रूप में मनाने की घोषणा की।

इस अवसर पर श्री तोमर ने “अनुसंधान सुविधाओं”, “पोषक-अनाज बीज विज्ञान केंद्र”, पोषण केंद्र (न्यूट्री-हब) की “पोषक-अनाज नवोद्यम प्रदर्शनी”, “नवोद्यम/स्टार्टअप सुविधाएं: कदन्न खाद्य प्रसंस्करण एककों” एवं “पोहाकरण श्रृंखला” तथा इफको की “पोषण वाटिका” का उद्घाटन व पौधारोपण किया। उन्होंने संस्थान की खाद्य प्रसंस्करण सुविधाओं, व्यवसाय उष्मायन केंद्र व पोषण केंद्र का निरीक्षण एवं प्रक्षेत्र भ्रमण किया। श्री तोमर ने ‘पोषक-अनाज व्यंजन : एक स्वस्थ विकल्प’, ‘100 कदन्न (पोषक-अनाज) नवोद्यमियों की सफल गाथाओं का संकलन’ तथा ‘पोषक-अनाज: किसान उत्पादक संगठनों के जरिए पोषण मूल्य एवं किसानों की आय बढ़ाने हेतु मूल्य श्रृंखला का सुदृढ़ीकरण’ नामक तीन प्रकाशनों का विमोचन’ तथा ‘नवोद्यमियों के 8 विविध कदन्न उत्पादों का लोकार्पण’ किया।

कार्यक्रम में उत्तम-उभरते एफपीओ के लिए हलचलित महिला किसान वुमेन प्रोड्यूसर कंपनी लि. मध्य प्रदेश, उत्तम मिलेट नवोद्यमियों हेतु इन्नरबिइंग वेलनेस प्राइवेट लि. एवं फाउंडेशन हेल्थ फूड्स प्रा.लि., तेलंगाना, उत्तम प्रदर्शन करने वाले राज्य हेतु ओडिशा मिलेट मिशन तथा कदन्नों को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए उत्तम एकीकृत मूल्य श्रृंखला हेतु श्रेस्टा नेचुरल बायोप्रोडक्ट्स प्रा.लि., तेलंगाना को पोषक-अनाज पुरस्कार प्रदान किए गए। श्री तोमर की उपस्थिति में भाकृअनुप-भारतीय कदन्न अनुसंधान संस्थान ने एपीडा, एनआरएलएम, टीसीपीएल, हेरिटेज फूड्स के साथ समझौता ज्ञापनों का आदान-प्रदान किया।

सम्मानित अतिथि, श्री कैलाश चौधरी, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री ने अपने संबोधन में पोषक अनाजों के महत्त्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इन अनाजों के सेवन से स्वास्थ्य अच्छा रहता है, अतः हमें इन अनाजों को फिर से अपने भोजन में लाना होगा। उन्होंने ज़ोर देते हुए कहा कि कुपोषण की समस्याओं से निजात पाने के लिए सरकार और जनता को एक साथ मिलकर काम करना होगा। साथ ही उन्होंने जोड़ा कि किसानों अर्थात अन्नदाताओं के स्वस्थ व सशक्त होने पर ही देश आर्थिक तौर पर सशक्त होगा।

सुश्री शोभा करान्दलाजे, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री भी इस मौके पर बतौर सम्मानित अतिथि मौजूद रहीं।

श्री संजय अग्रवाल, सचिव, कृषि, भारत सरकार ने कहा कि पोषक अनाजों के क्षेत्र में उन्नत प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल व उसको बढ़ावा देना केंद्र सरकार का प्रमुख उद्देश्य रहा है।

डॉ. त्रिलोचन महापात्र, सचिव (कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग) एवं महानिदेशक (भा.कृ.अनु.प.) ने कार्यक्रम की भूमिका प्रस्तुत करते हुए पोषण सम्मेलन के संबंध में संक्षिप्त जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि पोषक अनाज हितधारकों का यह सम्मेलन पोषण अनाजों से संबंधित चुनौतियों के समाधान के लिए एक दिशा-निर्देश तैयार करने में अहम भूमिका निभाएगा। उन्होंने जानकारी दी कि पोषण वाटिका को बढ़ावा देने हेतु केवीके के माध्यम से किसानों को बीज प्रदान किया जाएगा।

डॉ. शेखर सी मांडे, सचिव, डीएसआईआर तथा महानिदेशक, सीएसआईआर ने उद्घाटन टिप्पणी के दौरान पोषक अनाज के महत्त्व को बताते हुए सीएसआरआर एवं आईसीएआर के संयुक्त कार्यों पर प्रकाश डाला।

डॉ. एस. के. मल्होत्रा, कृषि आयुक्त, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग ने स्थिति-पत्र पर प्रतिपुष्टि एवं अं.पो.अ.व. 2023 पर चर्चा की तथा उक्त आयोजन हेतु अपेक्षित संपूर्ण रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए बताया कि सरकार 18 विभिन्न मंत्रालयों को शामिल करते हुए इस आयोजन को विशाल बनाने एवं पोषक अनाज हेतु भारत ही नहीं, अपितु  संपूर्ण विश्व में जागरूकता लाने हेतु प्रयासरत है।

डॉ. तिलक राज शर्मा, उप महानिदेशक (फसल विज्ञान), भाकृअनुप ने अपने स्वागत संबोधन से उद्घाटन सत्र की शुरुआत की।

डॉ. विलास ए टोणपि, निदेशक, भाकृअनुप-भारतीय कदन्न अनुसंधान संस्थान, ने गणमान्य अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया।

(स्त्रोत: भाकृअनुप-भारतीय कदन्न अनुसंधान संस्थान, हैदराबाद)