पशुपालकों के लिए चारा गोष्ठी

15 नवम्बर, 2016

श्री योगी आदित्यनाथ, सांसद, गोरखपुर द्वारा एक दिवसीय चारा गोष्ठी एवं पूर्वांचल कृषि प्रदर्शनी एवं किसान गोष्ठी का उद्घाटन केवीके, चौकमाफी, गोरखपुर में आज किया गया। इस अवसर पर अपने संबोधन में उन्होंने पशुओं के लिए चारा, बीज एवं गुणवत्तापूर्ण बीज की उपलब्धता बनाए रखने के लिए पूरे वर्ष चारा फसलों की खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया।

Chara Ghosthi for Pasu Palak Chara Ghosthi for Pasu Palak

इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा जई बीज के एक कि.ग्रा. के पैकेट पशुपालकों को वितरित किये गये।

डॉ. पी.के. घोष, निदेशक, भाकृअनुप – आईजीएफआरआई ने पशु आहार में चारे के महत्व के बारे में चर्चा की तथा पूरे वर्ष चारा उत्पादन के लिए योजना बनाने में किसानों को सुझाव भी दिया। उन्होंने किसानों को आश्वस्त किया कि आईसीएआर – आईजीएफआरआई, झांसी में चारा फसलों जैसे, जई, बरसीम तथा घासों के बीज किसानों के लिए हमेशा उपलब्ध हैं।

डॉ. यू.एस. गौतम, निदेशक, आईसीएआर- अटारी, कानपुर द्वारा स्वागत भाषण दिया गया।

गोष्ठी का आयोजन संयुक्त रूप से भाकृअनुप – कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान (अटारी) क्षेत्र – 4, कानपुर तथा भाकृअनुप- भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान (आईजीएफआरआई), झांसी द्वारा किया गया।

(स्रोतः भाकृअनुप – कृषि प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान (अटारी), क्षेत्र – 4, कानपुर)